Monday, November 23, 2015

मानव पूजी से ही होगा सबका विकास 24-11-15

मानव पूजी से ही होगा सबका विकास

स्वस्थ और सुशिक्षित नागरिक ही किसी देश के विकास की जमानत होते है | अर्थशास्त्र की शब्दावली में इसे मानव पूजी कहा जाता है | अर्थशास्त्र में , आम तरीके से उत्पादन के पांच साधन माने जाते है , जिसमे श्रम व पूजी दो महत्वपूर्ण सक्रिय साधन माने गये है | नोबेल पुरूस्कार विजेता अर्थशास्त्री थ्योडोर शुल्त्ज ने 1961 में पहली बार मानव पूजी का तसव्वुर पेश किया | अमेरिकन इकोनामिक रिव्यू के मार्च 1961 के अंक में प्रकाशित उनके आलेख में उन्होंने व्यक्ति की शिक्षा , प्रशिक्ष्ण , कौशल उन्नयन आदि पर किये जाने वाले सभी व्यव उसकी उत्पादकता कार्यकुशलता , तथा आमदनी में वृद्दि करते है | वही मानव पूजी की भूमिका के बारे में नोबल पुरूस्कार से सम्मानित अमेरिका के ही एक और विश्वविख्यात अर्थशास्त्री गैरी बेकर ने कहा था कि मानव पूजी का आशय दक्षता , शिक्षा स्वास्थ्य और लोगो को प्रशिक्ष्ण से है | यह पूजी है क्योकि ये दक्षताए या शिक्षा लम्बे समय तक हमारा अभिन्न बनी रहेगी | उसी तरह जिस तरह कोई मशीन , प्लाट या फैक्ट्री उत्पादन का हिस्सा बने रहते है | किस्सा कोताह यह है कि सैद्दांतिक रूप से पूजी दो प्रकार है | पहली वो जो मूर्तरूप में दिखाई देती है -- भौतिक पूजी है | इस पूजी का उत्पादन कार्य में प्रत्यक्ष प्रयोग होता है | दूसरी , मानव पूजी जो मूर्तरूप से दिखाई नही देती लेकिन जो उत्पादन की गुणवत्ता तथा मात्रा दोनों में वृद्दि करती है | उसमे श्रमिक के श्रम कौशल के साथ - साथ , स्वरोजगार करने वाले व उद्यमी का उद्यमिता कौशल भी शामिल होता है | बेकर कोरिया का उदाहरण देते हुए कहते है कि समूचा कोयला उत्तरी कोरिया में है , दक्षिण कोरिया में नही | कोरियाई युद्द से पहले उत्तरी कोरिया - कोरिया का अपेक्षाकृत समृद्द हिस्सा था | आज उत्तर कोरिया आर्थिक रूप से चरमराया गया है | जबकि दक्षिण कोरिया समृद्द लोकतांत्रिक देश के तौर पर उभरा है | मुझे लगता है कि दक्षिण कोरिया की समृद्दी इसीलिए है कि उसने अपनी आबादी की प्रतिभा को प्रोत्साहन देने और उसका उपयोग करने को लेकर खासा प्रयास किया | मतलब यह है कि मानव पूजी वह महत्वपूर्ण सम्पत्ति है , जिसके जरिये भौतिक संसाधनों की कमी के वावजूद प्रगति का रास्ता तेजी के साथ तय किया जा सकता है |
पिछले हफ्ते विश्व आर्थिक मंच यानी डब्लूईएफ द्वारा जारी ह्यूमन कैपिटल रिपोर्ट 2015 के अनुसार , 124 देशो की सूची में भारत मानव पूजी सुचांक में 57.62 अंक के साथ 100वे स्थान पर है | डब्लूईएफ द्वारा तैयार की गयी मानव पूजी रिपोर्ट के अनुसार भारत , न केवल ब्रिक्स देशो - रूस , चीन , ब्राजील तथा दक्षिण अफ्रिका से नीचे है , बल्कि भारतीय उपमहादीप के उसके पड़ोसी देशो श्रीलंका , भूटान , तथा बाग्लादेश से भी नीचे है | मानव पूजी के दोनों आयामों - शिक्षा और स्वास्थ्य में भारत की हालत पतली है | हाल ही में साख्यिकी और कार्यक्रम कार्यन्वयन मंत्रालय के अंतर्गत राष्ट्रीय प्रतिदर्श सर्वेक्षण कार्यालय ने 71 वे दौरे के सर्वेक्षण के आकडे जारी किये है | इस दौर का सर्वेक्षण ' सामजिक उपयोग शिक्षा ' विषय पर कराया गया था | इन आकड़ो के मुताबिक़ , ग्रामीण इलाको में साक्षरता दर 71 प्रतिशत है , जबकि इसकी तुलना में शहरी इलाको में यह 86 फीसदी है | साथ ही साठ वर्ष और उससे अधिक उम्र वाली साक्षर महिलाओं की तुलना में पुरुषो में अधिक साक्षरता देखी गयी |
यह तो रही सिर्फ साक्षरता की बात | ध्यान रहे , तकनीकी रूप से साक्षर होने में और वास्तविक साक्षर में बड़ा अंतर है | असलियत में अधिसंख्य साक्षर अर्धसाक्षर ही है | उच्च शिक्षा , जो की मानव पूजी का अहम् हिस्सा है , में भारत का प्रदर्शन काफी निराशाजनक है | आंकड़े बताते है कि ग्रामीण इलाको में 4.5 फीसदी पुरुषो और 2.2 फीसदी महिलाओं ने स्नातक या उससे अधिक स्तर की शिक्षा पूरी की है | वही शहरी इलाको में 17 प्रतिशत पुरुषो और 12 प्रतिशत महिलाओं ने इस स्तर तक शिक्षा पूरी की | मतलब साफ़ है आर्थिक विकास की नित - नई सीढिया चढ़ता भारत अभी भी उच्च शिक्षा के मामले में काफी पीछे है |
दूसरी तरफ , स्वास्थ्य के मोर्चे पर भी कोई तसल्लीबख्श प्रदर्शन नही है | कुछ समय पहले ' सेव द चिल्ड्रन ' की विश्व की माओ की स्थिति पर जारी एक रिपोर्ट में भारत को दुनिया के 80 कम विकसित देशो में 76 वा स्थान मिला है | इस मामले में भारत कई गरीब अफ़्रीकी देशो से भी पीछे है | रिपोर्ट के मुताबिक़ , भारत में हर 140 महिलाओं में से एक पर बच्चे को जन्म के दौरान मरने का जोखिम रहता है | यह आकडा चीन और श्रीलंका जैसे पड़ोसी देशो की तुलना में कही अधिक है | चीन में हर 1500 महिलाओं में एक महिला पर प्रसव के दौरान मौत का खतरा होता है , वही श्रीलंका में यह आकडा 1100 पर एक और म्यामार में 180 पर एक है | ध्यान रहे की संयुक्त राष्ट्र की ' द पावर आफ 1.8 बिलियन ' नामक रिपोर्ट के मुताबिक़ , कुल जनसंख्या के मामले में हलाकि भारत चीन से पीछे है , लेकिन 10 - 24 साल की उम्र के 35.6करोड़ लोगो के साथ भारत सबसे अधिक युवा आबादी वाला देश है | रिपोर्ट में कहा गया है की अपनी बड़ी युवा आबादी के साथ विकासशील देशो की अर्थव्यवस्थाए नई उंचाई पर जा सकती है , बशर्ते वे युवा लोगो की शिक्षा व स्वास्थ्य में भारी निवेश करे |
अगर देश को दीर्घकालिक विकास के पथ पर ले जाना है तो इसके लिए स्वास्थ्य और शिक्षा जैसे महत्वपूर्ण क्षेत्रो में पहल तो करनी ही होगी | इस साल के बजट आवटन में इन क्षेत्रो को भारी अनदेखी हुई है | जाहिर है कि अगर मानव पूजी निर्माण करना है तो शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाओं को और ज्यादा मजबूत और जिम्मेदार बनाना होगा | और ऐतिहासिक तौर पर यह स्वंय - सिद्द तरीका भी है |

2 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (25-11-2015) को "अपने घर भी रोटी है, बे-शक रूखी-सूखी है" (चर्चा-अंक 2171) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    कार्तिक पूर्णिमा, गंगास्नान, गुरू नानर जयन्ती की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. ​​​​​​सुन्दर रचना ..........बधाई |
    ​​​​​​​​​​​​आप सभी का स्वागत है मेरे इस #ब्लॉग #हिन्दी #कविता #मंच के नये #पोस्ट #​असहिष्णुता पर | ब्लॉग पर आये और अपनी प्रतिक्रिया जरूर दें |

    ​http://hindikavitamanch.blogspot.in/2015/11/intolerance-vs-tolerance.html​​

    ReplyDelete