Friday, October 30, 2015

वीतराग ------------- 31-10-15

वीतराग -------------
देवताओं की सभा में एक विवाद चल पडा | विषय था कि धरती पर ऐसा कौन सा - ऋषि है , जो बीतराग है , पूर्णत: राग - आसक्ति से परे है | नारद भी सभा में मौजूद थे | उन्होंने कहा कि ऐसे तीन ऋषियों को तो मैं जानता हूँ | ये है -- पर्वत ऋषि , कुतुक ऋषि व कर्दम ऋषि | ये तीनो प्रख्यात तपस्वी है | तय हुआ कि इन तीनो को परखा जाए | उर्वशी भी वही बैठी थी | वह हंसी और बूली कि जीवन भर हमने यही काम किया है और हमे ऋषिगणों की आसक्ति पर विजय को परखने का मौका डिया जाए | नारद ने कहा -- ' यह ठीक है | ' इससे तीनो की परीक्षा भी हो जायेगी और बीतराग ; की व्याख्या भी सभी की समझ में आ जायेगी | ' देवसभा में तीनो ऋषियों को आमंत्रित कर लिया गया | उर्वशी ने तय किया कि कुमौक नृत्य प्रस्तुत करेगी | संस्कृत में केचुल उतरने को कुमौक कहते है | कुमौक नृत्य का अर्थ होता है क्रमश: अपने वस्त्र उतारते जाना | पहले पर्वत ऋषि आये | नृत्य आरम्भ हुआ | इसे देखते ही वे बोले -- हमे यह दृश्य क्यों दिखा रहे हो ? बंद करो इसे | ' उर्वशी हंसी और बोली -- ये तो पहले प्रहार में ही चले गये | ' अर्थात वीतराग ' स्थिति ' में होते तो इन्हें कोई आपत्ति नही होती | नृत्य चलता रहा कर्दम ऋषि ने अपनी आँखे बंद कर ली , ताकि वह दृश्य न देख सके | उन्हें भी असफल माना गया | जो निरपेक्ष भाव से उस नृत्य को देख ले , वही वीतरागी हो सकता था जो आँखे बंद कर ले , वह कैसा बीतरागी ! वही कुतुक ऋषि प्रसन्न मन से नृत्य देख रहे थे | उन्होंने उर्वशी से कहा ' देवी तुमने तो कहा था कि कुमौक नृत्य दिखाओगी , एक - एक कर केचुल उतारोगी | वह तो तुमने अब तक दिखाया नही ? उर्वशी बोलो ' ऋषिवर आपके सामने ही सारे वस्त्र उतर दिए और आप कहते है कि नृत्य नही दिखाया ! क्या अब भी कुछ बाकी है ? ऋषि बोले -- हे उर्वशी , आत्मा पर भी तो पांच आवरण चढ़े है | अन्नमय कोष , मनोमय कोष प्राणमय कोष , विज्ञानमय कोष और आनन्दमय कोष | वह तो तुमने उतारे नही | अगर वह उतरकर दिखाती तो वस्तुत: आनन्द आता | तुमने पूरा नृत्य दिखाया होता तो ही तुम्हारे नृत्य की सार्थकता थी | पांचो आवरण तो हमे यथावत चढ़े दिखाई दे रहे है | '

4 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (01-11-2015) को "ज़िन्दगी दुश्वार लेकिन प्यार कर" (चर्चा अंक-2147) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (01-11-2015) को "ज़िन्दगी दुश्वार लेकिन प्यार कर" (चर्चा अंक-2147) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete